Mera Gaon Nibandh in Hindi – मेरा गाँव निबंध

Mera Gaon Nibandh – मेरा गाँव निबंध: दोस्तों आज के हम इस पोस्ट में Mera Gaon Nibandh यानि मेरा गाँव पर निबंध लिखने वाले है। Mera Gaon Nibandh हमें अपने स्कूल से लिखने को मिलता है। Mera Gaon Nibandh यह उन छात्रों के महत्वपूर्ण है। जो छात्र कक्षा चौथे से कक्षा 10 वीं तक के छात्र है। इन सभी छात्रों को अपने अपने अपने स्कूल में Mera Gaon Nibandh लिखने को मिलता है। Mera Gaon Nibandh अक्सर हमें परीक्षामें भी लिखने को मिलता है। 

इस पोस्ट में हम मेरा गाँव पर निबंध Mera Gaon Nibandh पढ़ने को मिलेगा जो आप सभी छात्रों के लिए महत्वपूर्ण होने वाला है। छात्रों को इस लेख के माध्यम से Mera Gaon Nibandh लिखने में काफी मदद मिलने वाला है। इस आर्टिकल के माध्यम से हमें Mera Gaon Nibandh 250 Words, Mera Gaon Nibandh 350 Words, Mera Gaon Nibandh 500 Words देखने को मिलेगा।

Mera Gaon Nibandh

Mera Gaon Nibandh 250 Words – मेरा गाँव निबंध 250 शब्दो में

Mera Gaon Nibandh: हम अपने गाँव अपने स्कूल की गर्मी छुट्टी मिलने पर शहर हर साल जाते है। मेरा गाँव एक ऐसा जगह है जंहा शहर के प्रदूषण और बहुत सारे गाड़िओ के शोर से दूर है। यंहा हमेशा ताज़ी हवा मिलता है। जो शहर में नहीं मिल पाता है। मेरे गावं में बहुत से ऐसे लोग है जो गर्मी में गावं जरूर आते है। बहुत हमारे दोस्त होते है जो पढ़ाई को लेकर अलग अलग शहर में रहते है। 

मेरे गाँव की खेती – मेरे गाँव के लगभग सभी लोगो के पास अपना अपना खेती है। जो हर रोज खेती करने के लिए सुबह सुबह अपने खेत में चले जाते है। मेरा भी गांव अपना खेती जिसके कारन मेरे घर के लोग भी सुबह में खेती करने के लिए जाते है। वैसे में मैं भी सुबह सुबह जल्दी उठ कर अपने घर के लोगों के साथ खेत में चला जाता हूँ। खेत में जाने के बाद खेत की हरियाली देख कर दिल खुस हो जाता है। 

मेरे गाँव की पेड़ पौधे – जब हम अपने गाँव आते है तो सीजन के अनुसार पेड़ पर फल लगे रहते है। जैसे मेरे गांव में बहुत से पेड़ है जिसमे फल लगे होते है। हमरे गांव के बच्चे तोड़ते भी है और ताजे फ़ल का आनन्द लेते है, साथ ही हम भी अपने गांव में बच्चों के साथ पूरा मस्ती करते है। 

मेरा गाँव के पालतू जानवर – गाँव के कुछ लोगों के छोड़ कर लगभग सभी लोग के पास कोई न कोई पालतू जानवर है। कुछ लोग अपने घर में गाय, भैंस, बकरी, मुर्गा आदि सभी जानवर पाले है, तो कुछ लोग गाय, भैंस पाले कोई केवल गाय पाला है तो कोई केवल बकरी सभी अपने अपने उपयोग के अनुसार पालतू जानवर पाले है। हमारे अपने खुद के दो गाय है। ऐसे में जब हम इन सभी को छोड़ कर गाँव जाते है, तो हमें गाँव वे सभी बाते बहुत याद आती है। 

Mera Gaon Nibandh 350 Words – मेरा गाँव निबंध 350 शब्दो में

मेरे गांव का खेत – मेरा गाँव जो बहुत बड़ा तो नहीं लेकिन बहुत प्यारा है। जंहा दूर दूर तक देखने में खेत और खेत की हरियाली ही नजर आती है। बोले तो मेरा गाँव चारो तरफ से खेतों से घिरा हुआ है और यहाँ पर तरह तरह की फसलों की खेती की गई है।

हमारे गाँव में सुबह के समय में गाय, भैंस, पक्षियों का आवाज सुनने को मिलता है। सुबह में पक्षियों की चहचाहट बहुत ही मधुर लगती है। हमारे गाँव के लोगो की मुख्य पेशा खेती और पशुपालन है। हला की हमारे गाँव में सभी परिवार खेती पर निर्भर नहीं है। बहुत से ऐसे लोग है जो काम की तलाश में और काम करने के लिए गाँव से शहर चले जाते है।

मेरे गांव का तालाब और बरगद का पेड़ – मेरे गाँव में एक बहुत बड़ा तालाब भी है जंहा हम कभी कभी अपने दोस्तों के साथ नहाने चले जाते जाते हैं। गाँव के तालाब में नहाने की जो मज़ा है, वे मज़ा कंहा शहरों की नल से नहाने के है। गाँव में बहुत बड़ा बरगद का पेड़ भी जंहा अक्सर गर्मिओं में गाँव के लोग नजर आते है। क्यूंकि जब हमारे गाँव की बिजली कट जाती थी तब बहुत से लोग उस पेड़ के निचे बैठ कर गाँव में हो रहें काम या होने वाले काम पर चर्चा होता है। बरगद के पेड़ के निचे बहुत से बच्चे खलते हुए भी नजर आते है। 

मेरे गाँव की शिक्षा व्यवस्था – मेरा गाँव में एक सरकारी माध्यमिक विद्यालय भी है। जंहा गाँव में रहने वाले लड़के पढ़ने जाते है। वैसे देखा जाए तो मेरे गाँव में भी बहुत से प्राइवेट स्कूल है। जिसके कारण गाँव के बहुत से ऐसे लड़के है जो प्राइवेट स्कूल में पढ़ने जाते है। मेरे गाँव के लड़के पढ़ने के लिए बहुत एक्टिव रहते है। गाँव में मेरे कोचिंग क्लास भी है। एक तरफ जंहा गाँव के लोग सुबह सुबह अपने खेत में खेती करने चले जाते है, वही लड़के सब सुबह में कोचिंग पढ़ने चले जाते है।

एक तरह से देखा जाए तो हमारे गाँव की शिक्षा व्यवस्था अच्छा है। ख़ास बात तो ये है, की हमारे गाँव के बहुत सारे लड़के Army में जाने के लिए बहुत इच्छुक होते है। जिसके कारन वे हर रोज 3 बजे सुबह से ही अपने दोस्तों के साथ दौड़ना शुरू कर देते है। बहुत से ऐसे बच्चे है जो गाँव में ही पढ़ कर अपनी तैयारी अच्छी तरह से करके Army में चले गए है।

Mera Gaon Nibandh 500 Words – मेरा गाँव निबंध 500 शब्दो में

Mera Gaon Nibandh – हम अक्सर अपने गाँव जाते रहते है। जंहा मेरा गाँव बहुत बड़ा तो नहीं लेकिन इतना बड़ा जरूर है जिसमे गाँव के लोग रह कर कर खेती का काम कर सकते है। गाँव में मेरे लगभग सभी लोगो के पास अपना खेती करने के लिए जमीन है। जिस पर गांव के किसान खेती करते है।

वैसे हम सभी जानते है की गांव के लोगो का मुख्य पेशा खेती और पशुपालन होता है। कुछ लोगो के छोड़ कर सभी लोग अपने खेती और पशुपालन पर निर्भर है। निचे हम अपने गाँव के बारे सब कुछ बताने वाले है, जैसे मेरे गाँव के फ़सल और पेड़ पौधे, गाँव की तालाब, गाँव की शिक्षा व्यवस्था, मेरे गाँव की विकास ये सभी के बारे में आपको बताने वाले है। 

मेरे गाँव के फ़सल और पेड़ पौधे – जैसे की हम सभी को पता है की गाँव में लगभग सभी लोगो के पास अपना अपना खेती करने के लिए जमीन है। जंहा सभी लोग मौसम के अनुसार अपने खेत में तरह तरह के फ़सल उगाते है। मौसम के अनुसार गाँव के किसान अपने खेत में गेहूँ, चावल, मक्का, अरहर, मटर इत्यादि फ़सल उगाते है। अनाज के अलावा गाँव के लोग सब्ज़ी फल की भी खेती करते है। 

गाँव के कुछ लोगो के पास अपना बड़े बड़े फल देने वाले पेड़ भी है। जिसमे बहुत से हर साल फल देते है तो कोई कोई पेड़ हर साल फल नहीं देते है। जिनके पेड़ अधिक होते है और फल भी अधिक मात्रा में निकलता है, वे अपने फल को गाँव के बाज़ार में बेच भी देते है। इसके अलावा गाँव के लोग सब्ज़ी के भी खेती करते है। बहुत से लोग है जो बहुत बड़े जमीन पर सब्ज़ी की खेती करते है। जिससे अधिक मात्रा में सब्जी हो, और वे सब्जी अच्छे भाव में गाँव के बाज़ार में बेचें।  

मेरे गाँव की शिक्षा व्यवस्था – वैसे तो आज के समय में मेरे गाँव की शिक्षा व्यवस्था पहले से अच्छा है। हमारे गाँव में एक प्राथमिक मध्य बिद्यालय है। जिसमे बहुत कम बच्चे पढ़ते है, क्योंकि गाँव के लगभग सभी लोगो को लगता है, की सरकारी बिद्यालय में पढ़ाई नहीं होती है। एक बात और भी हैं, की सरकारी स्कूल के शिक्षक के बच्चे भी सरकारी स्कूल में नहीं पढ़ते है। दूसरी बात ये है की गाँव में भी अब प्राइवेट स्कूल खुल गए है।

जिससे सभी अपने बच्चे को प्राइवेट स्कूल में ही पढ़ाना चाहते है। हमारे गाँव के बहुत से ऐसे बच्चे है जिनके घर की आर्थिक स्थिति बहुत अच्छा है, वे उच्च शिक्षा और अच्छी नौकरी के तलाश में बहार चले जाते है। मेरे गांव में कुछ कोचिंग संस्थान भी जंहा लड़के और लड़कियां पढ़ने आते है। कुछ कोचिंग ऐसे भी है जो सरकारी नौकरी की तैयारी भी करते है। 

मेरे गाँव की विकास – आज के समय में मेरे गाँव का बहुत विकास हुआ है। पहले मेरे गाँव में एक भी पक्की सड़क नहीं थी, लेकिन अब वंहा पक्की सड़क बन गई है। गाँव में बिजली तो थी लेकिन लाइन हमेसा नहीं रहता था। लेकिन लाइन अब सही रहता है दिन में कभी कभी ही कटता है। खास बात तो ये है की अब हमारे गाँव में खेती करने के लिए भी अलग से सरकार बिजली की व्यवस्था की है। बिजली हमेसा रहने के कारन गाँव के लोग अब कुछ काम करने के लिए बिजली पर भी निर्भर हो गए है।

यह भी पढ़े 

निष्कर्ष – Mera Gaon Nibandh 

दोस्तों हमें उम्मीद है की Mera Gaon Nibandh – मेरा गाँव निबंध यह लेख आपको पसंद आया होगा। हमने इस लेख को बहुत आसान शब्दो में लिखा जिसे बच्चे और बड़े बहुत आसानी से समझ सकते है। इस पोस्ट में Mera Gaon Nibandh जो 250 शब्दों, 350 शब्दों, 500 शब्दों तक लिखा गया है। जिसमे गाँव की वे सभी बात बताया गया है जो छात्र अक्सर शहर आने के बाद याद करते है।

वैसे अपना गाँव अपना गाँव होता है। मैं भी इस लेख को लिखते समय अपने गाँव को बहुत याद किया। जो भी छात्र जो किसी कार्य को या पढ़ाई को लेकर गाँव से आए है उन्हें अपना गाँव बहुत याद आता है। लेकिन जो छात्र बच्चपन से ही शहर में है उन्हें अपने गाँव बहुत कम ही याद आता है या जाना चाहते है।  हमें Facebook पर आप फॉलो कर सकते है। 

Leave a Comment

Your email address will not be published.