Global Warming in Hindi {ग्लोबल वार्मिंग क्या हैं?}


Global Warming in Hindi {ग्लोबल वार्मिंग क्या हैं?}


Global Warming in Hindi 

Global Warming दुनिया के लिए कितनी बड़ी समस्या है। यह बात भारत के बहुत कम लोग समझ पाते है। भारत के लोगों को ये शब्द थोड़ा टेक्निकल लगता है। लेकिन ग्लोबल वार्मिंग क्या है इसकी जानकारी पूरे भारत के लोगों को होनी चाहिए ताकि ग्लोबल वार्मिंग पर कंट्रोल किया जा सके। तो आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से ग्लोबल वार्मिंग बारे में पूरी जानकारी लेंगे तथा इसका क्या क्या खतरा है सभी जानकारी लेंगे हम इस आर्टिकल के माध्यम से।

Global Warming Meaning in Hindi

Global Warming का हिन्दी Meaning भूमंडलीय ऊष्मीकरण है।
यह नाम इंग्लिश में बोलने या सुनने में थोड़ा टेक्निकल लगता हैं। लेकिन यह नाम इस दुनियां के लिए कितना खतरनाक हैं। यह बहुत कम लोग ही जानते हैं।

What is Global warming? (ग्लोबल वार्मिंग क्या हैं)

Global Warming- आसान शब्दों में बोले तो ग्लोबल वार्मिंग का मतलब पृथ्वी के तापमान में दिन पर दिन वृद्धि होना।

Global Warming Information in Hindi

भारत में ग्लोबल वार्मिंग ज्यादा प्रचलित शब्द नहीं है। साथी आपको बता दें कि इस भाग दौड़ में लगे रहने वाले भारत के लोगों के लिए भी ग्लोबल वार्मिंग का कोई खास मतलब नहीं है। लेकिन ग्लोबल वार्मिंग विज्ञान और हमारे दुनिया के लिए एक बहुत बड़ा खतरा है। विज्ञान की माने तो यह एक 21वी शताब्दी का सबसे बड़ा खतरा है। यह खतरा तृतीय विश्व युद्ध या फिर बोले तो एक एस्टेराॅइड का पृथ्वी से टकराना उससे भी बड़ा खतरा है।

ग्लोबल वार्मिंग का कारण?

ग्लोबल वार्मिंग का कारण है ग्रीन हाउस गैस तो सबसे पहले हम जानते हैं कि

ग्रीन हाउस गैस क्या है? What is Green House Gas?

ग्रीन हाउस गैसें वे गैसें होती हैं जो बाहर से मिल रही गर्मी या ऊष्मा को अपने अंदर सोख लेती हैं।

ग्रीन हाउस गैस का उपयोग?

ग्रीन हाउस गैस का उपयोग अत्यधिक सर्द इलाकों में उन पौधों को गर्म रखने के लिये किया जाता है जो अत्यधिक ठंडा मौसम में खराब हो जाते हैं। ऐसे में इन पौधों को काँच के एक बंद घर में रखा जाता है। और उस काँच के घर में ग्रीन हाउस गैस भर दिया जाता है। यह गैस सूरज से आने वाली किरण की गर्मी सोख लेती है और पौधों को गर्म रखती है।

यही प्रक्रिया पृथ्वी के साथ होती है। सूरज से आने वाली किरण की गर्मी का कुछ मात्रा को पृथ्वी द्वारा सोख लिया जाता है। ये सभी प्रक्रिया होने में हमारे पर्यावरण में फैली ग्रीन हाउस गैसों का महत्त्वपूर्ण योगदान है।

Global Warming Effects in Hindi

(Worldwatch Institute) वर्ल्डवॉच संस्थान की एक रिपोर्ट के अनुसार धरती का तापमान लगातार बढ़ने से समुद्र का जलस्तर धीरे-धीरे ऊँचा उठ रहा है। पिछले 50 वर्षों में अंटार्कटिका (Antarctica) प्रायद्वीप का 8000 वर्ग किलोमीटर का बर्फ का क्षेत्रफल पिघलकर पानी बन चुका है।

और पिछले 100 वर्षों के दौरान समुद्र का जलस्तर लगभग 18 सेंटीमीटर ऊँचा उठा है। वर्तमान में यह स्तर प्रतिवर्ष 0.1 से 0.3 सेंटीमीटर बढ़ रहा है। यदि समुद्र का जलस्तर इसी रफ्तार से बढ़ता रहा तो अगले 100 वर्षों में दुनिया के 50 प्रतिशत समुद्रतटीय क्षेत्र डूब जायेंगे।

पर्यावरण एवं वन मंत्रालय भारत सरकार के एक सर्वेक्षण के अनुसार अगर ग्लोबल वार्मिंग (Global Warming) इसी तरह बढ़ता रहा तो भारत में बर्फ पिघलने के कारण से गोवा के आस-पास समुद्र का जलस्तर 46 से 58 सेमी. तक बढ़ जाएगा। इसके परिणामस्वरूप गोवा और आंध्रप्रदेश के समुद्र के किनारे के 5 से 10 प्रतिशत क्षेत्र डूब जायेंगे।


Global Warming in Hindi {ग्लोबल वार्मिंग क्या हैं?}

Global Warming Definition in Hindi (भूमंडलीय ऊष्मीकरण)

जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है की धरती के वातावरण के तापमान में लगातार हो रही दुनिया भर में बढ़ोतरी को ‘ग्लोबल वार्मिंग’ या भूमंडलीय ऊष्मीकरण कहा जाता है। हमारी धरती सूर्य की किरणों से उष्मा प्राप्त करती है। ये किरणें वायुमंडल से गुजरती हुईं धरती की सतह से टकराती हैं और फिर वहीं से परावर्तित होकर पुन: वापस लौट जाती हैं।

Slogan On Global Warming in Hindi Language

  • ग्लेशियर का बर्फ पिघल रहा है, समुद्र किनारे के लोगो का जीना मुश्किल कर रहा है।
  • ग्लोबल वार्मिंग पर अगर काबू पाना है, तो जन जन में इसके लिए जागरूकता फैलाना है।
  • धरती का तापमान अगर हो सामान, स्वर्ग बन जाये ये जहान।
  • धरती का बढ़ता तापमान, धरती पर घटता इन्सान।
  • पेड़ काटे जायेंगे अगर बेतहाशा तो तापमान बढता रहेगा हमेशा।
  • विकसित राष्ट्र की कल्पना है बेकार, प्रदूषण के लिए औद्योगीकरण और इंसान जिम्मेदार है।
  • कुदरत से नाता जोड़ेंगे, ग्लोबल वार्मिंग के खतरे को तोड़ेंगे।
  • हर प्राणी की यही पुकार, हरा भरा हो ये संसार।
  • हर प्राणी का ये अधिकार, हवादार हो ये संसार।
  • ग्लोबल वार्मिंग पर आपको कोई भीं कुछ नहीं बोलेगा सिवाय आपके आने वाली पीढ़ी के।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top