Gay Per Nibandh – गाय पर निबंध 400 शब्द में

Gay Per Nibandh  (गाय पर निबंध) – गाय पर निबंध यह निबंध हमें अक्सर हमारे स्कूल में लिखने को मिलता है। यह लेख हमें या तो हमारे स्कूल से लिखाया जाता है या हमारे शिक्षक द्वारा Home Work दिया जाता है। यानि हमें इसे अपने घर से लिख कर लाना होता है। तो यदि आपके भी क्लास टीचर गाय पर निबंध लिखने को दी है तो आप मेरे द्वारा लिखी गई लेख को पढ़ कर लिख सकते है। 

हमारे इस लेख के माध्यम से आपको Gay Per Nibandh – गाय पर निबंध 200 शब्दों में, Gay Per Nibandh – गाय पर निबंध 300 शब्दों में, Gay Per Nibandh – गाय पर निबंध 400 शब्दों में पढ़ने को मिलेगा जिससे आप जितने भी शब्दों में यह लेख लिखना चाहते है, बहुत आसानी से लिख सकते है। वैसे तो यह लेख उन छात्रों के लिए महत्वपूर्ण है जो कक्षा 2 से 6 तक के छात्र है। 

Gay Per Nibandh

Gay Per Nibandh – गाय पर निबंध

हमारे देश भारत एक ऐसा देश है जंहा के लोग गाय को गौमाता का दर्जा दिए है। यंहा गाय को माता के सम्मान पूजा जाता है। आपको बता दे की हमारे देश में सभी पालतू जानवर सबसे अधिक महत्व गाय को ही दिया जाता है। गाय आपको भारत के ग्रामीण क्षेत्र में लगभग हर घरों में देखने को मिल जायेगा। वैसे तो गाय आपको शहरो में भी देखने मिल जायेगी लेकिन ज़्यदातर यह गांव में ही देखने को मिलते है।  

Gay Per Nibandh – गाय पर निबंध 400 शब्द में

गाय का उपयोग – गाय को लोग दूध देने के लिए पालते है। क्यूंकि गाय एक पालतू जानवर है और यह हर दिन दो बार सुबह – शाम दूध देती है। इनके दूध में पौष्टिक होता है। इसी दूध से दही और घी भी बनता है। जिसे खाने और पिने से सभी लोगो के लिए लाभदायक होता है। इसके अलावा दूध से बहुत तरह पकवान भी बनते है। दूध से बनने वाले कुछ मुख्य पकवान पनीर, मक्खन, रसगुल्ला, आइसक्रीम इत्यादि बहुत से पकवान बनते है। 

गाय का गोबर फसलों में खाद के लिए बहुत उपयोगी होता है। गोबर का उपयोग गांव में उपले बनाकर जलावन का भी काम आता है। इस उपले का उपयोग पूजा में भी होता है। इसके अलावा गोबर से बायोगैस, अगरबत्ती, दीए, कागज, सीएनजी प्लांट इत्यदि बनाने के लिए उपयोग में लिया जाता है।  गोमूत्र का उपयोग से बहुत तरह के आयुर्वेदिक दवाई भी बनाया जता है। 

गाय की शारीरिक बनावट – गाय के दो आँख, दो कान, दो सींग, दो नाक होते है। इसके अलावा इनके चार पैर, चार थन होते है। गाय की एक लम्बी पूछ भी होते है। जो मखियों से बचाने के लिए हमेसा इनकी मदद करता है। पालतू गाय को बांध कर रखा जाता है। जिससे इनके गले में एक रस्सी भी देखने को मिल जाता है। 

गाय के रंग –  गाय कई रंगों  की होती है। जैसे सफेद, काला, लाल, बादामी तथा चितकबरी यानि जिनके शरीर पर दो रंग जगह जगह पर होते है। 

गाय के नस्ल – गाय की वैसे तो बहुत से नस्ल है। लेकिन हम इसमें भारत के कुछ खास नस्ल के नाम देखेंगे। सहिवाल यह नस्ल की गाय मुख्यतः पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, उत्तरप्रदेश, बिहार में पाई  जाती है। थारपारकर इस नस्ल की गाय जोधपुर, जैसलमेर, कच्छ में पाई जाती है। जर्सी गाय विदेशी नस्ल में सर्वाधिक लोकप्रिय है।

गाय का धार्मिक महत्व – गाय का धार्मिक महत्व – हमारे देश भारत में गाय को एक बिशेष दर्जा दिया गया है। क्यूंकि भारत में गाय को गोमाता का दर्जा दिया गया है। मान्यता है की गाय की शरीर में 33 करोड़ देवी देताओँ का निवास होता है। इसीलिए तो गाय को भारत में पूजा की जाती है। गाय का दूध हिन्दू धर्म में बहुत महत्वपूर्ण होता है। तभी तो गाय की दूध से पूजा किया जाता है। इसके साथ साथ गाय का गोबर से भी पूजा किया जाता है। 

Gay Per Nibandh – गाय पर निबंध 300 शब्द में

प्रस्तावना – भारत में गाय को गौमाता का दर्जा दिया गया है। इसीलिए तो भारत लोग गाय की माता सम्मान पूजा करते है। भारत के लोग जो अपने घरों में गाय पालते है उनके घरो में बनने वाले पहली रोटी गाय को ही दिया जाता है। सभी पालतू जानवरो में गाय को अधिक महत्व दिया जाता है। गाय का दूध सभी तरह के लोगो के लिए अच्छा होता है। खास कर नवजात शिशु के लिए। 

उपयोग – जैसे की हम सभी जानते है की गाय को दूध देने के लिए पाला जाता है। लोगों  गाय को दो कारणों से पालते है एक इनके दूध केवल अपने परिवार को पिने के लिए दूसरा दूध बेच कर व्यापार करने के लिए ये दो कारण है। इनके दूध से बहुत मिठाइयाँ और डेरी उतपाद बनता है। जैसे दही, मक्खन, पनीर, घी इत्यादि बनाई जाती है। इसके दूध पिने से हमारे शरीर को ताकत मिलती है।  

फ़ायदे  – गाय का दूध में विटामिन D पाया जाता है। इसके अलावा इसमें प्रोटीन, हेल्दी फैट और कैल्शियम भी होता है जो हमारी मांसपेशियों को स्वस्थ्य रखता है। गाय की दूध में प्रोटीन भैंस की तुलना में कम होता है। 100 ML गाय के दूध में प्रोटीन की मात्रा 3.2 ग्राम होता है। जबकि 100 ML भैंस के दूध में प्रोटीन की मात्रा 3.6 ग्राम होता है। 

बनावट – गाय की चार पैर, चार थन, दो कान, दो नाक, दो आंख, दो सींग होते है। इसके एक मुँह और एक लम्बी पूछ होती है। यह कला, लाल, सफ़ेद, भूरा और चितकबरा रंग की होती है। यह शाकाहारी जानवर जो ज़्यदातर हरी घास और भूसे खाती है। गाय की औसत वजन 385 किलोग्राम 545 किलोग्राम तक होता है।

उपसंहार – जैसे की हम सभी जानते है की हमारे गांव के लोगो के लिए गाय महत्वपूर्ण पालतू जानवर है। इसका दूध  निकाल कर गांव के लोग व्यापार करते है। इसके अलावा गांव के द्वारा जन्म दी नर बछड़ा को बड़ा होने के बाद खेतों हल करने के लिए उपयोग करते है करते है।

लेकिन शहरी क्षेत्र में रहने वाली गांयो पर संकट मडरा रहा है। क्यूंकि यंहा के लोग प्लास्टिक को कचरे की ढ़ेर में फेक देते है जिससे शहरों में खुले चरने वाली गांय इन प्लास्टिक को भी खा जाती है। जिसके कारन से वे बीमार हो जाती है। 

Gay Per Nibandh – गाय पर निबंध 200 शब्द में 

प्रस्तावना – गाय एक पालतू जानवर है। भारत में गाय का बहुत महत्व है क्यूंकि यंहा गाय को गौमाता रूप दिया गया है जिसके कारन यंहा के लोग गाय को माता सम्मान पूजा करते है। भारत में गाय पालने वाले लोग सबसे पहले अपने गाय के लिए एक रोटी निकलते है।

गाय की आकर्ति व रूप – यह अधिकतर लाल, कला, सफ़ेद और चितकबरी  रंग की देखने को मिलती है। गाय के चार पैर, चार थन, दो आंख, दो नाक, दो कान, दो सींग होते है। इसके साथ साथ इनके एक मुँह और एक पूंछ होते है। गाय हमेसा हरी घास, भूसे अनाज इत्यादि हरे चारा अधिक खाना पसंद करती है। 

दैनिक जीवन में उपयोग – गाय का दैनिक जीवन में किसानो के लिए बहुत उपयोग है, क्यूंकि गाय के दूध का व्यापार होता है वही कुछ लोग इसे अपने घरो में केवल अपने परिवार के सदस्य के लिए दूध खाने के लिए पालते है। इसके दूध में प्रोटीन होता है। जो सभी उम्र के लोगो के सेहत के लिए अच्छा होता है।

गाय के  गोबर से उपले, बायोगैस, अगरबत्ती, कागज इत्यादि जैसे उत्पाद बनाने के लिए उपयोग में लिया जाता है। गाय के मूत्र का उपयोग आयुर्वेदिक दवाई बनाने में भी किया जाता है।

Gay Per Nibandh 10 Line – गाय पर निबंध 10 लाइन

  1. गाय एक पालतू जानवर है। भारत में इसका महत्व बहुत अधिक है।
  2. भारत के लोगो द्वारा गाय को गौमाता का दर्जा दिया गया है। यंहा के लोगो द्वारा गाय को पूजा भी किया जाता है।
  3. इसके दो आंख, दो कान, दो नाक, दो सींग चार पैर, चार थन होते है। इसके आलावा इनका एक मुँह और एक लंबी पूछ होती है।  
  4. गाय एक शाकाहारी पालतू जानवर है जो घास, भूसे, पत्तियाँ, सब्जियों और अनाज खाती है।
  5. भारत की गाय अवसत एक दिन में 3 लीटर से 20 लीटर तक दूध देती है। 
  6. गाय के दूध से खाने के उत्पाद बनते है जैसे – दही, घी, पनीर, आइसक्रीम इत्यादि डेयरी प्रोडक्ट बनाई जाती है। 
  7. गाय बहुत ही शांत और कोमल सवभाव की होती हैं।
  8. गाय का उपयोग दूध का व्यापार करने के लिए दर्जनों की संख्या में पालते है। 
  9. गाय के गोबर का उपयोग बायोगैस, अगरबत्ती, कागज, खेत के लिए खाद इत्यादि जैसे उत्पाद बनाने के लिए भी किया जाता है। 
  10. गाय के नर बछड़े जब बड़े हो जाते है तब उनका उपयोग किसान अपने खेत जोतने के लिए करते है।

यह निबंध भी पढ़े

निष्कर्ष – Gay Per Nibandh (गाय पर निबंध)

हमें उम्मीद है, की हमारे द्वारा लिखी गई Gay Per Nibandh – गाय पर निबंध आपको पसंद आया होगा। इसमें हमने Gay Per Nibandh – गाय पर निबंध लिखा है। जिसमे गाय से जुड़ी सभी तरह की जानकारी आपके साथ शेयर की है। इसमें आपको Gay Per Nibandh 400, 300, 200 शब्दों में देखने को मिलेगा। यदि आपके मन में इस लेख से जुड़ी किसी भी तरह का प्रश्न हो तो आप हमसे कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है। हमें आप Facebook पर भी फॉलो कर सकते है।  

Leave a Comment

Your email address will not be published.